Rich Dad Poor Dad रिच डैड पुअर डैड

Rich dad poor dad book in hindi

Rich dad poor dad  पुस्तक Robert Kiyosaki  द्वारा Personal Finance तथा self help पर लिखी गई दुनिया  की Best selling books में से एक है| यह पुस्तक आसान भाषा में  सिखाती है| पैसा कैसे काम करता है| अमीर लोग धन के बारे में कुछ ऐसा जानते हैं जो गरीब लोग नहीं  जानते | Rich dad poor dad के लेखक Robert Kiyosaki कहते हैं की अगर हमें अमीर बनना है तो हमें नौकरी नहीं बल्कि व्यवसाय और निवेश करना चाहिए|

Rich Dad Poor Dad  पुस्तक में Robert कहते हैं  कि पैसों के बारे में अमीर लोग अपने बच्चों को ऐसा क्या सिखाते हैं जो गरीब और मध्यम वर्ग के माता-पिता नहीं सिखाते

वह बताते  हैं कि गरीब और मध्यवर्गीय लोग अपने बच्चों से कहते हैं मेहनत से पढ़ो अच्छे नंबर लाओ अच्छी तनख्वाह वाली नौकरी मिलेगी और मिल भी जाती है और उसकी जिंदगी की चूहा दौड़ (rat race) शुरू हो जाती है|

रोबर्ट  चूहा दौड़ के बारे में बताते है किअगर आप किसी औसत शिक्षित आदमी ज्यादा कड़ी मेहनत करने वाले व्यक्ति को देखे तो उनमे ये सामनता देखेगी कि बच्चे का जन्म होता है बच्चा स्कूल जाता है। अच्छे नंबर लता है  माँ बाप ख़ुश हो जाते है। बच्चा कॉलेज से ग्रेजुएशन कम्प्लेट करता है फिर डॉक्टर वकील या सरकारी नौकरी मिल जाती है| उसके पास पैसा आता है उसकी शादी हो जाति है उसका जीवन आनंदमय कटता है उसे भविष्य  सुनहरा लगता है कुछ सालों बाद उनके बच्चे होते हैं जो बड़े होते हैं उनके उनके साथ खर्चा भी बढ़ता है ज्यादा कमाने के लिए वह और ज्यादा कड़ी मेहनत करने लगता है बच्चों की उच्च शिक्षा शादी रिटायरमेंट के लिए बजट की चिंता होती है शादी से पहले उन्हें अपना भविष्य सुनहरा लगता था|

वही आज नौकरी के  बाकी दिन घर पानी बिजली क्रेडिट कार्ड तथा सरकार को टैक्स देते हुए गुजरते हैं इसे ही चूहा दौड़ कहते हैं फिर यही सलहा वह अपने बच्चो को देते है की कड़ी मेहनत करो अच्छे नंबर लायो अच्छी नौकरी करो। वह जिंदगी भर कड़ी मेहनत करते है वह पैसो क़े बारे नहीं सीखते। यही पीढ़ी दर पीढ़ी चलता रहता है।

Rich Dad Poor Dad मैं Robert Kiyosaki कहते है की हमें चूहा दौड़ से निकलने का  बस यही तरीका है की हमें अपने बच्चो को अकाउंट और निवेश दोनों क्षेत्र में शिक्षित और निपुण किया जाये जिनके बारे में स्कूल में नहीं सीखाया जाता है|

Robert कहते हैं कि संसार बदल रहा लेकिन हमारी शिक्षा पद्धति बिल्कुल भी नहीं बदली है| मेहनत से पढ़ो अच्छे नंबर लाओ अच्छी नौकरी करो यह सब औद्योगिक युग में ठीक था| लेकिन आज का युग सुचना का युग है आज जिसके आप जितनी ज्यादा सुचना है वो उतना ही सफल होगा| लेकिन आज स्कूल मे ऐसे विषय पढ़ते है जो उनके जीवन में कभी भी कही भी काम नहीं आते है। लेकिन उन्हें अकाउंट  और निवेश की शिक्षा बिलकुल नहीं दी जाती जिसकी उन्हें जीवन में सबसे ज्यादा जरूरत होती है|

Robert Kiyosaki निवेश के बारे में कहते है|

Robert Kiyosaki निवेश के बारे में कहते है मेरे अमीर पिता कहते थे कि लोगो का निवेश के बारे में सोचने का नजरिया|

आर्थिक असफलता का सबसे बड़ा कारण है लोगो का बहुत ही सुरक्षात्मक तरीके से काम करना है वे  हारने से इतना डरते है कि हार जाते है गरीब लोग नकारात्मक सोचते है जैसे वो कहते है मैं इस काम को नहीं कर सकता तथा वह अपने दिमाग को निष्क्रिय कर लेते है। तथा उन्हें और सोचने की जरूरत नहीं होती और वह नहीं कर पाते है अमीर लोग गरीब लोगो की तुलना में सकारात्मक सोचते है वह कहते है में इस  काम को किस तरह कर सकता हूँ कह के अपने दिमाग को सक्रिय कर देते हैं तथा उनका दिमाग सोचने पर मजबूर हो जाता है और वह उस काम को कर देते हैं|

अमीर लोग पहले कमाते है खर्चा करते है फिर टैक्स चुकाते है। तथा नौकरी करने वाले लोग कमाते है उसके बाद टैक्स  चुकाते है फिर आखिर मै खर्चा करते है।

आपको जीवन मै कभी ऐसा कोई भी अमीर व्यक्ति नहीं मिलेगा जिसने आपने एक भी पैसा नहीं खोया हो। पर आपको ऐसे कई गरीब मिऔर कैसे हो रहा हैल जायँगे जिसने एक भी फूटी कौड़ी  नहीं खोई हो निवेश……. में।

इस तेज़ी से बदल रही दुनिया में आप जानते कितना है ये महत्वपूर्ण विषय नहीं है क्योंकि आप जो जानते है वह पुराना हो  चुका है महत्वपूर्ण ये है कि आप सीखते कितना तेज़ी से है यही कला महत्वपूर्ण और अनमोल है बहुत तेजी से सीखना ज्यादा तेज़ फॉर्मूले ढूंढ़ने में ये काम आता है अमीर बनने के लिए कड़ी और ज्यादा मेहनत करने का फार्मूला अब पुराना हो चुका है|

Robert अपने दो पिताओं क़े बारे में बताते है|

Robert  अपने दो पिताओं क़े बारे में बताते है जिनमे एक उनके दोस्त के पिता  rich dad और poor dad जो उनके असली पिता है। उनके दोनो पिताओं के विचार एक दूसरे से बहुत ही अलग थे।

  • उनके गरीब  पिता पीएचडी थे। और उनके अमीर पिता 8वी पास थे दोनों अपने कॅरियर में सफल थे।
  • दोनों ने कड़ी मेहनत की और पैसा कमाया। लेकिन मेरे अमीर पिता  हवाई क़े सबसे अमीर आदमी थे और मेरे गरीब पिता पैसो क़े लिए परेशान थे।
  • मेरे अमीर पिता मरने क़े बाद करोड़ो डॉलर छोड़ गए और मेरे गरीव पिता मरने क़े बाद कर्ज़ा छोड़ गए।
  • मेरे गरीव पिता कहते थे की पैसा ही सब बुराइयों वजह है।
  • और मेरे अमीर पिता कहते थे की पैसे की कमी ही सब बुराइयों की वजह है।
  • मेरे गरीब पिता कहते थे मेहनत से पढ़ो अच्छी नौकरी करो तथा मेरे अमीर बाप कहते  की मेहनत से सीखो बिज़नेस करो। नौकरियां पैदा करो।
  • मेरे गरीब पिता कहते थे की मैं इसलिए अमीर नहीं हूं क्योंकि मुझे बच्चो को पालना पड़ता है।
  • तथा मेरे अमीर पिता कहते थे की मुझे इसलिए अमीर बनना है क्योकि मुझे अपने बच्चो को पढ़ाना है|
  • मेरे गरीब पिता खाने की टेबल पर पैसे और बिज़नेस की बात करने को मना करते थे।
  • तथा मेरे अमीर  पिता खाने की टेबल पर भी बिज़नेस और पैसे की बात क्या करते थे।
  • मेरे गरीब पिता कहते थे। पैसे के मामलो में सुरक्षीत कदम उठाओ मेरे अमीर बाप कहते थे खतरों का सामना करो मेरे अमीर पिता एक क़े बाद एक निवेश करते गए।

मेरे गरीब पिता कहते थे की मै कभी अमीर नहीं बन सकता ये सच भी हुआ तब जब वो खुद को गरीब सोच कर आगे बड़े और अंत मै वह गरीब भी हो गए। तथा मेरे अमीर पिता हमेशा खुद को अमीर समझ कर आगे बड़े  और अमीर हो भी गए। हालाँकि वह एक बार काफी पैसा आने के बाद दिवालियापन की कगार पैर पहुंच गए थे फिर भी वहअपने आपको को गरीब नहीं मानते थे क्योकि उनका मानने था की गरीब होना एक स्थाई समस्या है लेकिन पैसा न न होना एक अस्थाई।

अमीर लोग पैसो के लिए काम नहीं करते पैसा उनके लिए काम करता है।

मेरे अमीर बाप कहना था की गरीब और मध्यवर्गिए लोग पैसो के लिए काम काम करते है।तथा अमीर के लिए पैसा काम करता है।

वह कहते की गरीब और मध्यवर्गीय लोगो ने पैसे के लिए तथा अमीरो  ने पैसो से काम करवाना सीख लिए है। रोबर्ट कहते है पैसे एक ताकत है और उससे भी बड़ी ताकत है वित्तीय शिक्षा पैसा तो आता जाता रहता लेकिन पैसे कैसे काम करता है अगर हम ये सीख ले तो हम पैसे से ज्यादा ताकतवर हो जाते है।

संपत्ति (assets) और दायित्व (liabilities)   क्या है।

Robert संपत्ति तथा दायित्व के बारे  बताते है। संपत्ति वह होती है जो जेब मे पैसा डालती है।तथा दायित्व वह होती है जो जेब से पैसे निकालती है। आगे कहते है की हमें अमीर बनने के लिए हमेशा संपत्ति खरीदना चाइये जो लोग इनके फर्क को नहीं समझते उन्हें  हमेसा पैसो की तंगी रहती है

अमीर लोग संम्पति खरीदते है जबकि गरीब तथा मध्यवर्गीय लोग दायित्व को सम्पति समझते है। अमीर बनने के लिए हमें संपत्ति खरीदना चाहिए दायित्वव नहीं अमीर लोगे आय से सम्पति -संपत्ति से आय यही प्रकिर्या दोहरा अमीर लोग और अमीर हो जाते है। तथा गरीब लोग आय से व्यय  करने के बाद जो बचता है उससे दायित्व खरीद लेते है तथा अमीर लोग और अमीर व गरीब लोग और गरीब होते जाते है।

Rich dad poor dad in hindi pdf

आप की जानकारी के लिए मैं बता दू की की ये पुस्तक रिच डैड पुअर डैड in hindi pdf के रूप मे ये आप को कही नहीं मिलेगी pdf में सर्च कर के आपने समय बिलकुल भी बर्बाद न करे मेरे तरह  ये एक रॉयलिटी पुस्तक है हिंदी में पढ़ने के लिए इसे कही से buy करना ही पड़ेगा।


Post Author: admin

2 thoughts on “Rich Dad Poor Dad रिच डैड पुअर डैड

    Mohd arif

    (February 11, 2019 - 5:18 pm)

    Nice

      admin

      (February 13, 2019 - 9:46 pm)

      thanks

Leave a Reply to admin Cancel reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *